ईमानदारी की कहानी : एक चोर का ईमानदार बेटा – प्रेरक कहानी | Moral Story In Hindi

Honest & Moral Story In Hindi : नमस्कार दोस्तों, स्पीड इंडिया 24 आपका हार्दिक स्वागत करता है. आज हम आपके लिए “ईमानदारी की कहानी : एक चोर का ईमानदार बेटा – प्रेरक कहानी | Moral Story In Hindi” की जानकारी लेकर आये है. उम्मीद है आपको ये प्रेरक कहानी पसंद आयेगी.

ईमानदारी की कहानी : एक चोर का ईमानदार बेटा – प्रेरक कहानी | Honest & Moral Story In Hindi

ईमानदारी की कहानी
ईमानदारी की कहानी

ईमानदारी की कहानी : एक शहर में लालू नाम का चोर रहता था. उसके 2 बेटिया और एक बेटा था. पुरे शहर को पता था की कालू एक चोर है. शहर के सभी लोग कालू के बच्चो को को चोर के बच्चे-चोर के बच्चे कहकर बुलाते थे. जैसे-जैसे बच्चे बड़े होने लगे कालू की दिक्कते और बढ़ने लगी. अब कालू को पता था की इतने पैसो से घर का गुजरा नहीं होने वाला. कालू ने अपने बड़े बेटे को बाहरवी तक पढाया था.

लेकिन कालू का बेटा बाहरवीं के आगे नहीं पढ़ सका क्योंकि इनके घर की आर्थिक स्थिति इतनी ख़राब हो गई थी की अब 2 समय का खाना भी नसीब नहीं था. कालू के बेटे ने कई जगहों पर नोकरी के आवेदन दिए लेकिन कही पर भी उसे नोकरी पर नहीं रखा गया. कालू के बेटे को नौकरी पर नहीं रखना का कारण था. एक तो वो सिर्फ बाहरवीं पास है और दूसरा वो एक चोर का बेटा है.

अब तो कालू की बेटिया भी बड़ी हो चुकी थी. कालू को अब उसकी दोनों बेटियों की शादी की चिंता भी खाने लगी. एक दिन कालू ने अपने बेटे से कहा चल आज तू भी मेरे साथ चोरी करने चल. बेटे ने कहा पापा आज तक आपने कई घरो में चोरी की होगी, उनमे से तो कई घर ऐसे भी होंगे जिनके घर में बेटियों की शादी होनी थी. लेकिन फिर भी आपने उन घरो में चोरी की.

क्या पता आपके द्वारा चोरी करने के बाद उन सभी बेटियों की शादी हुई ही ना हो. आपने एक बार भी नहीं सोचा की आपके चोरी करने के कारण दुसरो पर क्या गुजरती होगी. जब भी आप किसी की मेहनत की कमाई चुराते थे तो उन सभी को कितना दुःख होता होगा. आज आपको अपनी बेटियों की शादी की चिंता खाये जा रही है, तो वो सभी भी तो किसी की बेटियां थी.

पापा आप करो चोरी मुझे आज नहीं तो कल नौकरी मिल ही जायेगी. में अपनी ज़िन्दगी में मेहनत करना चाहता हूँ. मेरी वजह से कभी भी किसी बेटी की शादी नहीं टूटेगी और ना ही किसी को कोई दुःख पहुचेगा. बेटे की बातें सुन कर कालू को बहुत पछतावा हुआ. कालू बोला बेटा आज से में भी चोरी करना छोड़ दूंगा. मेरी वजह से बचपन से तुम सभी को बहुत कुछ सहना पड़ा उसके मिले मुझे मांफ कर दो. में भी आज से मेहनत से पैसे कमाऊंगा.


Dear Readers :- I hope आपको ईमानदारी की कहानी : एक चोर का ईमानदार बेटा – प्रेरक कहानी | Moral Story In Hindi पसंद आई होगी.

निवेदन :- अगर आपको हमारी ईमानदारी की कहानी | प्रेरक कहानी पसंद आये तो शेयर और कमेंट जरुर करे.

READ MORE :-

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *