महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है, इसका महत्व क्या है ? | Maha Shivaratri In Hindi

Hello दोस्तों Speed India 24 आपका हार्दिक स्वागत करता है. आज की इस पोस्ट में हम आपको भगवान शिव और महाशिवरात्रि के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारीयां देने वाले है. दोस्तों महाशिवरात्रि आप सभी मनाते है लेकिन क्या आप जानते है की महाशिवरात्रि क्यों मनायी जाती है. और महाशिवरात्रि का आपके जीवन में क्या महत्व है ? आज हम आपके सभी प्रश्नों के उत्तर हमारी इस पोस्ट के माध्यम से देने की कोशिश करेंगे. तो आईये श्री गणेश करते है हमारी आज की पोस्ट जो है – महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है, इसका महत्व क्या है ? | Maha Shivaratri Story In Hindi…

शिवरात्रि से जुड़े आपके कुछ सवाल क्या है ?

  • महाशिवरात्रि मनाने का उद्देश्य क्या है ?
  • एक साल में कितनी शिवरात्रि होती है ?
  • महाशिवरात्रि क्यों मनायी जाती है ?
  • महाशिवरात्रि का महत्व क्या है ?

महाशिवरात्रि मनाने का उद्देश्य क्या है ? – जाने पूरी जानकारी 

महाशिवरात्रि का पावन पर्व भगवान शिव और उनकी पत्नी पार्वती जी के विवाह के उत्सव के रूप में मनाया जाता है. इस दिन भारत में भगवान शिव और पार्वती जी की पूजा बड़े धूमधाम से की जाती है.

ये भी पढ़े –


एक साल में कितनी शिवरात्रि होती है ? – जाने पूरी जानकारी

हिन्दू कलेंडर के अनुसार एक साल में 12 शिवरात्रि होती है. शिवरात्रि प्रत्येक हिन्दू महीने की कृष्ण चतुर्दशी जो हर महीने का अंतिम दिन होता है उसी दिन मनाई जाती है. लेकिन माघ महीने की कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि के तोर पर मनाया जाता है. पुरे भारत वर्ष में इसी दिन महाशिवरात्रि मनाई जाती है.  


Maha Shivaratri Story In Hindi | क्यों मनायी जाती है महाशिवरात्रि ? – जाने पूरी जानकारी 

Maha Shivaratri Story In Hindi
महाशिवरात्रि की पूरी कहानी

आप सब जानते होंगे की जिस रात भगवान शिव और पार्वती जी का मिलन हुआ उसी रात को महाशिवरात्रि कहा जाता है. ये कहानी तो आपने अक्शर ही सुनी होगी. लेकिन क्या आप जानते है की इसके अलावा भी एक ऐसी कथा है वो बहुत ही कम लोग जानते है. आईये जानते है महाशिवरात्रि के पुरे रहस्य के बारे में…

शिव पुराण के अनुसार दुनिया की शुरुआत में शिव सागर से भगवान विष्णु प्रकट हुए. इसके बाद उनकी नाभि से एक कमल खिला जिससे ब्रह्मदेव प्रकट हुए. लेकिन जब इन दोनों का जन्म हुआ तब ये दोनों ही नहीं जानते थे की ये कोन है और कहा से आये है. बात-बात पर दोनों के बिच में लड़ाईयां होने लगी. भगवान और विष्णु और ब्रह्मदेव दोनों ही महाशक्तिशाली थे. इसके कारण इन दोनों के बिच में युद्ध शुरू हो गया की कोन महान है. इन दोनों के बिच यह युद्ध तकरीबन 10 हजार सालो तक चला, लेकिन इन दोनों में से किसी ने भी हार नहीं मानी.

तभी अच्चानक एक विशाल अग्निस्तंभ उन दोनों के बिच में आ खड़ा हुआ. जिसके दिव्य अग्नि को देख दोनों ही आश्चर्यचकित रहे गए. इसके बाद अचानक से एक आकाशवाणी हुई. की जो भी इस दिव्य अग्नि के अंत को पा लेगा वो महान माना जाएगा. दोनों ही इसके अंत को पा लेने के लिए निकल गए. लेकिन दोनों को ही उस दिव्य अग्नि के अंत को नहीं पा सके. दोनों का ही अहंकार चुरचुर हो गया. दोनों ने वापस आकर उस दिव्य अग्नि को प्रणाम किया और दर्शन देने का आग्रह किया. तब उस दिव्य अग्नि के अंदर से पहली बार भगवान शिव प्रकट हुए. और उन्होंने कहा की कोई भी महान नहीं है. बल्कि तीनो देव एक सम्मान है. इस कथा के अनुसार इसीलिए महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है.

समुंद्र-मंथन की कहानी – एक और मान्यता के अनुसार जब समुंद्र-मंथन से कालकूट विष निकला. उसे भगवान शिव ने दुनिया को बचाने के लिए इसी दिन अपने कंठ में धारण कर लिया था. और तभी से इसीदिन महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है.


महाशिवरात्रि का महत्व क्या है ? Importance Of Mahashivratri In Hindi – जाने पूरी जानकारी 

महाशिवरात्रि का महत्व – हमारे हिंदू धर्म में भगवान शिव को सबसे ऊचा दर्जा दिया गया है. महाशिवरात्रि के दिन हिंदू धर्म के लोग भगवान शिव से प्रार्थना करते है की उन्होंने जाने-अनजाने जो पाप किये है उन्हें माफ़ करे. इस दिन लोग भगवान शिव और उनकी पत्नी के विवाह के उत्सव को बड़े ही धूमधाम से मनाते है. 

महाशिवरात्रि के दिन लोग भगवान शिव से आशिर्वाद मिलने की उम्मीद से व्रत रखते है. व्रत रखने के पीछे ये मान्यता है की इस दिन व्रत रखने वाले पुरुष या महिला को अच्छा जीवन साथी मिलता है. यही वजह है की महाशिवरात्रि का पर्व इतना प्रशिद्ध है.


Dear Readers :- उम्मीद है हमारे द्वारा दी गयी जानकारी “महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है, महाशिवरात्रि का महत्व क्या है ? | Maha Shivaratri Story In Hindi” आपको पसंद आयी होगी.

दोस्तों पोस्ट पसंद आये तो Share और Comment जरुर करे !

More Religious Story :-

 

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *