भारत में फांसी की सजा के बाद पेन की निब क्यों तोड़ दी जाती है ?

Hello दोस्तों Speed India 24 आपका हार्दिक स्वागत करता है. आपने कई बार पुरानी फिल्मो और लोगो के मुह से सुना होगा की जब भारत के कोर्ट में जज किसी मुजरिम को फांसी की सजा सुनाता है तो उसके तुरंत बाद ही वो उस पेन की निब को तोड़ देता है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की फांसी की सजा के बाद पेन की निब क्यों तोड़ दी जाती है. आज हम आपको भारत के इस कानून के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है.

  • भारत से जुड़े Top 100 चोंका देने वाले दिलचस्प रोचक तथ्य

भारत में फांसी की सजा के बाद पेन की निब क्यों तोड़ दी जाती है ?

भारत का कानून
भारत का कानून

भारतीय कानून में जब किसी मुजरिम को फांसी या मौत की सजा दी जाती है तो उसके तुरंत बाद ही जज द्वारा पेन की निब तोड़ दी जाती है. इसके पीछे का कारण शायद ही आप जानते होंगे.

भारतीय कानून में सबसे बड़ी सजा फांसी की सजा होती है. भारत में सिर्फ ऐसे व्यक्ति को फांसी की सजा सुनाई जाती है. जिसने बहुत ही बड़ा या बुरा अपराध किया हो. जज इस सजा को सुनाने के बाद अपने पेन की निब को तोड़ देता है इस आशा में की दुबारा ऐसा अपराध ना हो. 

एक और कारण ये भी है की इस सजा के बाद किसी व्यक्ति का जीवन समाप्त हो जाता है. इसलिए इस सजा को सुनाने के बाद पेन की निब तोड़ दी जाती है ताकि पेन का भी जीवन समाप्त हो जाये. और इसके बाद पेन द्वारा कुछ भी और लिखा न जा सके.

फांसी की सजा किसी भी बड़े अपराध के लिए अंतिम सजा होती है. अगर एक बार जज द्वारा फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है तो इसके बाद इसे किसी भी प्रक्रिया द्वारा बदला नहीं जा सकता है. इस वजह से जब पेन से मौत लिखा जाता है तब उसकी निब तोड़ दी जाती है.

यह भी माना जाता है की अगर फेसले के बाद पेन की निब तोड़ी जा चुकी है. तो इसके बाद खुद उस जज को भी यह अधिकार नहीं होता है की वो दुबारा उस फैसले को बदलने के बार में सोच सके. पेन की निब टूट जाने के बाद इस फैसले पर दुबारा विचार भी नहीं किया जा सकता.


Dear Readers :- उम्मीद है हमारे द्वारा दी गयी जानकारी “भारत में फांसी की सजा के बाद पेन की निब क्यों तोड़ दी जाती है ?” से आप सन्तुष्ट हुए होंगे. 

दोस्तों पोस्ट पसंद आये तो शेयर और कमेंट जरुर करे !

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *